इमरान खान और हिटलर में कोई अंतर नहीं: शहबाज शरीफ

इस्लामाबाद: पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने कहा है कि संसद की गरिमा बहाल करना और पारदर्शी चुनाव कराना देश के लिए महत्वपूर्ण है.

पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय के बाहर मीडियाकर्मियों से बात करते हुए, शरीफ ने विश्वास व्यक्त किया कि अर्थव्यवस्था पर मौजूदा अनिश्चितता के प्रतिकूल प्रभाव को देखते हुए शीर्ष अदालत जल्द ही देश में राजनीतिक स्थिति के संबंध में स्वत: संज्ञान मामले में अपना फैसला सुनाएगी.

दुन्या न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, शरीफ ने प्रधानमंत्री इमरान खान को कोसते हुए कहा कि पाक प्रधानमंत्री और एडोल्फ हिटलर में कोई अंतर नहीं है.

पीएमएल-एन नेता ने यह भी कहा कि गलत नीतियों के कारण पाकिस्तान को कई दशक पीछे धकेल दिया गया है, क्योंकि देश में गरीबी और बेरोजगारी है, जबकि महंगाई आसमान छू रही है.

पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) के नेता ने यह भी कहा कि देश को बचाने के लिए संसद को सशक्त बनाना होगा.

पीएमएल-एन के एक अन्य नेता मुहम्मद जुबैर ने कहा कि मौजूदा राजनीतिक स्थिति देश की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित कर रही है.

मीडियाकर्मियों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर पीटीआई के पास विदेशी साजिश के सबूत हैं तो उन्हें सुप्रीम कोर्ट में पेश करना चाहिए था.

दूसरी ओर, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के उपाध्यक्ष शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि धमकी भरा पत्र पाकिस्तान के आंतरिक मामलों में स्पष्ट हस्तक्षेप है.

(इनपुट आईएएनएस)

spot_img
1,710FansLike
250FollowersFollow
118FollowersFollow
14,500SubscribersSubscribe