Russia Ukraine crisis: रूस ने यूक्रेन सीमा पर फौज की संख्या बढ़ाई, अमेरिका परेशान

यूक्रेन ने रूस के बढ़ते दबाव (ukraine russia tension) के बीच बुधवार को झंडा लहराकर राष्ट्रीय एकता का प्रदर्शन किया, जबकि अमेरिका ने कहा कि रूस ने यूक्रेन की सीमा से बलों की वापसी की अपनी घोषणा के विपरीत क्षेत्र में कम से कम 7,000 और बलों को तैनात किया है (Russia deploys additional forces near Ukraine border). यूक्रेन पर रूस के हमले की आशंका अभी तक हकीकत में नहीं बदली है, लेकिन अमेरिका और उसके सहयोगियों का कहना है कि इसकी आशंका अब भी उतनी ही अधिक बनी हुई है.

पश्चिमी देशों के अनुमान के अनुसार, रूस ने यूक्रेन के पूर्व, उत्तर और दक्षिण में 1,50,000 से अधिक बलों को तैनात किया है. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने संकेत दिया है कि वह संकट का शांतिपूर्ण समाधान चाहते हैं और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने वादा किया है कि अमेरिका भी संकट के राजनयिक समाधान का हर मौका देगा, लेकिन और बलों की तैनाती की खबर से मॉस्को के इरादे को लेकर संशय पैदा हो गया है. इससे पहले, रूस ने बुधवार को कहा था कि वह और अधिक सैनिकों तथा हथियारों को सैन्य अड्डों पर वापस ला रहा है.

रूस के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को एक वीडियो जारी किया था, जिसमें यह देखा जा सकता है कि बख्तरबंद वाहनों से लदी हुई एक मालगाड़ी क्रीमिया, काला सागर प्रायद्वीप से दूर एक पुल को पार कर रही है. रूस ने इस प्रायद्वीप को 2014 में अपने भू-भाग में मिला लिया था. उसने घोषणा की कि और टैंक इकाइयों को ट्रेन में रखा जा रहा है, ताकि प्रशिक्षण अभ्यास के बाद उनके स्थायी अड्डे को वापस भेजा जा सके. रूसी लड़ाकू विमानों ने बुधवार को बेलारूस के हवाई क्षेत्र में प्रशिक्षण उड़ानें भरी, जो उत्तर की ओर से यूक्रेन के पड़ोस में है. वहीं, अर्द्ध-सैनिक बलों ने गोलीबारी का अभ्यास किया.

अमेरिकी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पश्चिमी देशों ने पाया है कि रूस ने यूक्रेन के निकट 7,000 अतिरिक्त बलों को तैनात किया है. अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने एबीसी न्यूज से कहा, ‘हमने बलों की वापसी का कोई संकेत नहीं देखा है. वह (पुतिन) ट्रिगर दबा सकते हैं. वह इसे आज दबा सकते हैं, वह इसे कल दबा सकते हैं, वह इसे अगले सप्ताह दबा सकते है.

बहरहाल, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन पर हमला करने की मंशा से इनकार किया है. उनकी मांग है कि यूक्रेन को नाटो में शामिल नहीं किया जाए, नाटो उसकी सीमा के पास अपने सैनिकों की तैनाती से बचे और पूर्वी यूरोप से अपने बल हटाए. इन मांगों को पश्चिमी देशों ने खारिज कर दिया है.

(इनपुट) ईटीवी भारत
spot_img
1,717FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe