रूस के हमलों से दहला यूक्रेन, भारत में यूक्रेन के राजदूत ने पीएम नरेंद्र मोदी से मांगी मदद

रूस की ओर से हमला किए जाने के बाद यूक्रेन ने विश्‍व के दूसरे देशों से मदद और समर्थन की अपील की है. भारत में यूक्रेन के राजदूत इगोर पोलिखा (Igor Polikha) ने कहा, ‘हम भारत से समर्थन देने का आग्रह करते हैं. मोदी जी दुनिया के सबसे शक्तिशाली और सम्‍मानित नेता हैं और आपके रूस के साथ विशेष सामरिक रिश्‍ते हैं.’ यूक्रेन के राजदूत ने कहा कि मोदीजी यदि पुतिन से बात करते हैं तो हमें उम्‍मीद है कि वे जवाब देंगे. हम इस मामले में भारत की ओर से मजबूत आवाज की उम्‍मीद लगाए हुए हैं.’

यूक्रेन के राजदूत ने कहा, ‘हालात जल्‍द ही नियंत्रण के बाहर हो सकते हैं. ऐसे में यह केवल क्षेत्रीय संकट नहीं रह जाएगा और पूरे विश्‍व के लिए संकट का रूप ले सकता है. ऐसे समय बयान की जरूरत नहीं है, इसके कोइ मायने नहीं हैं, हमें पूरे विश्‍व के समर्थन की जरूरत है. यह न केवल हमारे बल्कि आपको अपने लोगों की सुरक्षा के लिए जरूरी है. हम भारत का दखल (मामले में) चाहते हैं. रूस के साथ अपने रिश्‍तों के मद्देनजर भारत को इस मामले में और सक्रिय रूप से संलग्‍न होना चाहिए.’

इगोर ने कहा कि शुरुआती रिपोर्टों के अनुसार, रूस की सेना यूक्रेन की बार्डर को पार कर चुकी है. हमारे ऊपर तीन तरफ से हमला हो रहा है. हम अपनी क्षेत्रीय अखंडता की हिफाजत के लिए तैयार हैं.

रूस का जिक्र करते हुए भारत में यूक्रेन के राजदूत इगोर ने कहा कि इस हमले की किसी ने भी उम्‍मीद नहीं की थी. दुनिया को शांतिपूर्ण समाधान की उम्‍मीद थी. हमारे राष्‍ट्रप‍ति भी द्विपक्षीय बातचीत समाधान की उम्‍मीद लगाए हुए थे. भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का गैर-स्थायी सदस्य और एक बहुत ही प्रभावशाली देश है और इसने हमेशा ही संघर्ष के बजाय कूटनीति को तरजीह दी है. भारत गुटनिरपेक्ष देशों का नेता था और अभी भी है.

गौरतलब है कि रूस ने यूक्रेन पर हमला कर दिया है. स्थानीय मीडिया ने यूक्रेन की राजधानी कीव में विस्फोटों की सूचना दी है. रूसी रक्षा मंत्रालय का कहना है कि उसने यूक्रेन के एयरबेस और एयर डिफेंस अपने सटीक हथियारों से नष्ट कर दिए हैं. रक्षा मंत्रालय की ओर से गुरुवार को एक बयान जारी किया गया, जिसमें कहा गया कि रूसी सेना यूक्रेन के मिलिट्री इंफ्रास्ट्रक्चर को सटीक हथियारों से नष्ट कर रही है. बता दें कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार की सुबह यूक्रेन के खिलाफ मिलिट्री ऑपरेशन की घोषणा कर दी है.

यूक्रेन-रूस संकट पर केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री राजकुमार रंजन सिंह ने गुरुवार को कहा कि भारत का रुख निष्पक्ष है और देश संघर्ष के शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद करता है. सिंह ने आज यहां एएनआई से बात करते हुए कहा, ‘हमारा रुख निष्पक्ष है और हम शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद करते हैं.’ इसी बीच भारतीयों को यूक्रेन से वापस लाने के लिए उड़ान भरने वाला एयर इंडिया का विमान रास्त से ही वापस आ गया है. दरअसल रूस के हमले के बाद यूक्रेन ने कहा कि उसने अपने पूर्वी क्षेत्रों में रूसी सैन्य अभियानों के बीच अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया है. जिसके कारण एयर इंडिया के विमान को रास्ते से ही वापस आना पड़ा.

आपको बता दें कि करीब 20 हजार भारतीय अब भी यूक्रेन में फंसे हैं. वे स्वदेश लौटने का इंतजार कर रहे हैं. एयर इंडिया की ओर से 24 और 26 फरवरी को भारत-यूक्रेन के बीच उड़ान संचालित की जानी थी.

(एनडीटीवी से इनपुट के साथ)

spot_img
1,711FansLike
253FollowersFollow
118FollowersFollow
14,500SubscribersSubscribe