मदरसा सर्वे: देवबंद दारुल उलूम ने 24 सितंबर को मदरसा प्रमुखों की बैठक बुलाई

सहारनपुर: देवबंद स्थित इस्लामिक मदरसा दारुल उलूम ने उत्तर प्रदेश में इससे जुड़े 250 बड़े मदरसों के प्रमुखों को 24 सितंबर को एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए कहा है।

दारुल उलूम के प्रवक्ता अशरफ उस्मानी ने कहा, सम्मेलन का उद्देश्य राज्य में मदरसों के सर्वेक्षण पर सरकार के हालिया निर्देश पर चर्चा और अध्ययन करना और उसके अनुसार प्रतिक्रिया देना है।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा हाल ही में सभी जिलाधिकारियों को गैर-मान्यता प्राप्त मदरसों की पहचान के लिए एक सर्वेक्षण शुरू करने के निर्देश ने एक राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया है, क्योंकि कई अल्पसंख्यक संगठनों ने इसे समुदाय को लक्षित करने का प्रयास बताया है।

कई मौलवियों ने इस कदम का समर्थन किया, जबकि अन्य ने अधिक स्पष्टता की मांग की।

बरेली के मौलवी तौकीर रजा खान ने कहा, अगर सरकार मदरसों पर डेटा एकत्र करना चाहती है तो किसी को समस्या क्यों होनी चाहिए? हालांकि, राज्य सरकार को पहले अपनी मंशा स्पष्ट करनी चाहिए। उसे यह भी बताना चाहिए कि क्या वह मान्यता प्राप्त मदरसों के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभा रही है?

तौकीर रजा खान

जमीयत दावतुल मुस्लिमीन के देवबंद स्थित संरक्षक मौलाना इशाक गोरा ने कहा, सरकार के निर्देश स्पष्ट हैं। सर्वेक्षण उन मदरसों से संबंधित है, जिनकी मान्यता नहीं है। नियमों का पालन करने वालों को डरने की कोई बात नहीं है।

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, राज्य में 16,000 से अधिक मान्यता मदरसे हैं।

—आईएएनएस

spot_img
1,716FansLike
249FollowersFollow
118FollowersFollow
14,300SubscribersSubscribe