यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए एयर इंडिया का विमान रोमानिया के बुखारेस्ट पहुंचा

मुंबई से एयर इंडिया का एक विमान रूसी सैन्य हमले के कारण यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए शनिवार सुबह रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट में उतरा.

समाचार एजेंसी एएनआई ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है. एएनआई ने ट्वीट किया, ‘फंसे भारतीयों को निकालने के लिए रोमानिया के बुखारेस्ट में एयर इंडिया AI-1943 की एक स्पेशल फ्लाइट लैंड हुई.’

द सियासत डेली के अनुसार, वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने भी कहा कि ‘विमान, AI1943, मुंबई हवाई अड्डे से लगभग 3.40 बजे (भारतीय मानक समय) उड़ान भरी और लगभग 10.45 बजे (भारतीय मानक समय) बुखारेस्ट हवाई अड्डे पर उतरा.

उन्होंने कहा कि सड़क मार्ग से यूक्रेन-रोमानिया सीमा पर पहुंचे भारतीय नागरिकों को भारत सरकार के अधिकारी बुखारेस्ट ले गए हैं ताकि उन्हें एयर इंडिया की उड़ान से निकाला जा सके.

उन्होंने कहा कि AI-1943, जो बोइंग 787 विमान पर संचालित किया जा रहा है, एक बार में 256 यात्रियों को ले जा सकता है.

यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए एयर इंडिया शनिवार को बुखारेस्ट और हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट के लिए और उड़ानें संचालित करेगी.

24 फरवरी की सुबह से यूक्रेन के हवाई क्षेत्र को नागरिक विमानों के संचालन के लिए बंद कर दिया गया है और इसलिए, बुखारेस्ट और बुडापेस्ट से निकासी उड़ानें संचालित हो रही हैं.

अधिकारियों ने कहा कि लगभग 20,000 भारतीय, मुख्य रूप से छात्र, वर्तमान में यूक्रेन में फंसे हुए हैं.

यूक्रेन के हवाई क्षेत्र को बंद करने से पहले, एयर इंडिया ने 22 फरवरी को यूक्रेन की राजधानी कीव के लिए एक उड़ान संचालित की थी जिसमें 240 लोग भारत वापस आए थे.

इसने 24 फरवरी और 26 फरवरी को दो और उड़ानें संचालित करने की योजना बनाई थी, लेकिन यह ऐसा नहीं कर सका क्योंकि 24 फरवरी को रूसी आक्रमण शुरू हुआ और परिणामस्वरूप यूक्रेनी हवाई क्षेत्र बंद हो गया.

एयर इंडिया ने शुक्रवार रात ट्विटर पर कहा कि वह फंसे हुए भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए विशेष सरकारी चार्टर उड़ानों के रूप में शनिवार को दिल्ली और मुंबई से बुखारेस्ट और बुडापेस्ट के लिए बी787 विमानों का संचालन करेगी.

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने शुक्रवार को कहा कि वह रोमानिया और हंगरी से निकासी मार्ग स्थापित करने के लिए काम कर रहा है.

यह कहा, ‘वर्तमान में, निम्नलिखित चेक पॉइंट्स पर टीमें जगह ले रही हैं: उज़होरोड के पास चोप-ज़ाहोनी हंगेरियन सीमा, चेर्नित्सि के पास पोरबने-सिरेट रोमानियाई सीमा.’

दूतावास ने कहा कि भारतीय नागरिकों, विशेषकर छात्रों को, जो इन सीमा चौकियों के सबसे करीब रहते हैं, उन्हें सलाह दी जाती है कि वे इस विकल्प को साकार करने के लिए विदेश मंत्रालय की टीमों के समन्वय से संगठित तरीके से प्रस्थान करें.

एक बार जब उपर्युक्त मार्ग चालू हो जाते हैं, तो स्वयं यात्रा करने वाले भारतीय नागरिकों को सीमा चौकियों पर आगे बढ़ने की सलाह दी जाएगी, यह नोट किया गया.

दूतावास ने भारतीय यात्रियों को अपने पासपोर्ट, नकद (अधिमानतः अमेरिकी डॉलर में), अन्य आवश्यक वस्तुएं और COVID-19 टीकाकरण प्रमाण पत्र सीमा चौकियों पर ले जाने की सलाह दी.

इसमें कहा गया है, ‘भारतीय ध्वज का प्रिंट आउट लें और यात्रा के दौरान वाहनों और बसों पर प्रमुखता से चिपकाएं.

कीव और रोमानियाई सीमा चौकी के बीच की दूरी लगभग 600 किलोमीटर है और इसे सड़क मार्ग से कवर करने में साढ़े आठ घंटे से 11 घंटे तक का समय लगता है.

बुखारेस्ट रोमानियाई सीमा चौकी से लगभग 500 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और इसे सड़क मार्ग से सात से नौ घंटे के बीच कहीं भी लगता है.

कीव और हंगेरियन सीमा चौकी के बीच की दूरी लगभग 820 किलोमीटर है और इसे सड़क मार्ग से कवर करने में 12-13 घंटे लगते हैं.

बता दें कि रूस ने यूक्रेन पर हमला कर दिया है, जिसमें अभी तक 137 लोगों के मरे जाने की खबर है और लगभग 316 लोग घायल हुए हैं. वहीं, यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया है कि युद्ध में अब तक 1000 से ज्यादा रूसी सैनिक मारे गए हैं.

spot_img
1,717FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe