Exit Poll 2022: क्या एग्जिट पोल पर भरोसा किया जा सकता है? पढ़ें खबर, जानें राज्यों के एग्जिट पोल

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त हो चुके हैं. सियासी दलों को किस राज्य में कितनी सीटें मिलेंगी? इस बात पर सर्वेक्षण एजेंसियों की राय दिलचस्प तरीके से सामने आई हैं.

गौरतलब है कि पांच राज्यों में चार में फिलहाल बीजेपी सत्ता में है. पंजाब में कांग्रेस की सरकार है. विधानसभा चुनाव 2022 के नतीजों के बाद देखना दिलचस्प होगा कि किस राज्य में कौन सी पार्टी की सरकार बनेगी. सरकारें स्पष्ट बहुमत की बनेंगी या त्रिशंकु विधानसभा जैसे हालात बनेंगे, इस पर सर्वे एजेंसियों की राय बंटी हुई हैं.

कई ‘एग्जिट पोल’ में उत्तर प्रदेश में भाजपा और पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) को स्पष्ट बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया है, जबकि उत्तराखंड में मिलीजुली स्थिति बताई जा रही है.

स्रोत : एनडीटीवी

सीएनएन न्यूज 18, रिपब्लिक टीवी और न्यूज एक्स चैनलों के एग्जिट पोल के अनुसार उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को 211-277 सीटें मिलने और समाजवादी पार्टी (सपा) के नेतृत्व वाले गठबंधन को 119 से 160 सीटें मिलने का अनुमान है. इनमें से ज्यादातर ‘एग्जिट पोल’ में पंजाब में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आप की जीत का अनुमान लगाया है. इंडिया टुडे के ‘एक्जिट पोल’ में 117 सदस्यीय पंजाब विधानसभा में आप को 76-90 सीटों पर जीत मिलने का अनुमान लगाया गया है. टीवी9 भारतवर्ष-पोलस्ट्रेट के एग्जिट पोल में हालांकि, पंजाब में आप के लिए 56-61 सीटों का अनुमान जताया गया है. अधिकतर एग्जिट पोल में सत्तारूढ़ कांग्रेस को पंजाब में दूसरा स्थान मिलने का अनुमान जताया गया है. उत्तराखंड में कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए अलग-अलग एग्जिट पोल में विधानसभा चुनाव में जीत का अनुमान व्यक्त किया गया है. कुछ एग्जिट पोल में गोवा में त्रिशंकु विधानसभा की संभावना जतायी गई है, जबकि मणिपुर में भाजपा को प्रतिद्वंद्वियों पर बढ़त मिलने का अनुमान व्यक्त किया गया है.

अब सवाल यह पैदा होता है कि क्या यह एग्जिट पोल सही साबित होंगे? क्या इस पर भरोसा करना सही होगा? ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में इस तरह की एग्जिट पोल गलत साबित हुई हैं. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में एग्जिट पोल में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया था लेकिन बीजेपी की सरकार नहीं बनी और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सरकार फिर से बनी जिसकी अध्यक्ष ममता बनर्जी हैं.

बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में बीजेपी सिर्फ 77 सीटें जीत पाई थी जबकि ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने 215 सीटें जीत कर सबका मुंह बंद कर दिया था और सभी एग्जिट पोल गलत साबित हुए थे लेकिन क्या इस बार भी ऐसा ही होगा ये तो 10 मार्च को मालूम पड़ेगा.

एग्जिट पोल : पश्चिम बंगाल विधानसभा, स्रोत : द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया

वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने पांच राज्यों के चुनावों के एग्जिट पोल पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. राउत ने इन पोल्स को नकार दिया है. उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल्स का अब कोई वजूद नहीं है, कई एजेंसियां ये काम करती है. राउत ने कहा कि ‘पहले भी पोल गलत हुए हैं.’

एग्जिट पोल पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा ‘हम इंतजार करेंगे और देखेंगे कि चुनाव के नतीजे क्या रहते हैं… आज हम महिला दिवस मना रहे हैं. हमारी 159 महिला प्रत्याशी हैं. हमने अपनी तरफ से पूरा प्रयास किया है.

एग्जिट पोल पर RLD प्रमुख जयंत चौधरी ने कहा कि ‘ये एक राय है, मैं इससे सहमत नहीं हूं. जो उत्साह हमने देखा, परिवर्तन लाने के लिए एक निश्चय लोगों में था. मुझे लगता है सर्वे से अलग नतीजे होंगे. गठबंधन की सरकार बनेगी, इसमें कोई संदेह नहीं है.

एग्जिट पोल पर उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि एग्जिट पोल तो एग्जिट पोल हैं, हम जनता के दिल के भाव को जानते हैं. जनता ने कांग्रेस के पक्ष में परिवर्तन के लिए वोट दिया है. एग्जिट पोल जिन लोगों ने किया है, उसमें ही कितना अंतर है.

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओपी राजभर ने कहा कि SP की सरकार बन रही है. किसान जब आंदोलन कर रहे थे तब BJP के मंत्री और PM को नहीं दिखा लेकिन वोट मांगने के लिए चले गए. बंगाल में भी ऐसा ही एग्ज़िट पोल दिखाया गया था, कितनी सीटें मिले? दिल्ली, राजस्थान में भी मुंह की खानी पड़ी.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सांवत ने कहा कि नतीजों में 20 से ज्यादा सीटें भाजपा को मिलेंगी. सभी एग्जिट पोल भाजपा को ही बहुमत दिखा रहे हैं. मुझे विश्वास है कि भाजपा को बहुमत देंगे और फिर से एक बार भाजपा क्षेत्रीय पार्टियों और निर्दलीय लोगों के साथ सरकार बनाएगी. उनसे बातचीत केंद्रीय नेतृत्व भी कर रहा है.

क्या है एग्जिट पोल?
बता दें कि एग्जिट पोल शोधकर्ताओं द्वारा किए जाते हैं. शोधकर्ता मतदान के दिन अपने मताधिकार का प्रयोग कर पोलिंग बूथ से बाहर निकलने वालों से जानकारी हासिल करते हैं कि उन्होंने किस पार्टी या उम्मीदवार के पक्ष में वोट किया. ऐसे पोल का उद्देश्य मतदाताओं से एकत्रित जानकारी के आधार पर चुनाव के परिणाम की भविष्यवाणी करना है. भारत में कई संगठनों द्वारा एग्जिट पोल किए जाते हैं.

एग्जिट पोल करने वाले निजी फर्म और मीडिया संगठन हैं- टुडेज चाणक्य, एबीपी-सी-वोटर, न्यूज18, इंडिया टुडे-एक्सिस, टाइम्स नाउ-सीएनएक्स, न्यूज एक्स-नेता, रिपब्लिक-जन की बात, रिपब्लिक-सी-वोटर, एबीपी-सीएसडीएस और चिंतामणि.

पिछले विधानसभा नतीजों पर एक नजर-

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Uttar Pradesh Assembly Election 2022)
देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं. साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी सबसे ज्यादा 312 सीटें जीतकर सत्ता पर काबिज हुई थी. जबकि 2012 में सरकार बनाने वाली समाजवादी पार्टी महज 47 सीटों पर सिमट गई. वहीं बसपा सिर्फ 19 सीटें ही जीत पाई.

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 (Punjab Assembly Election 2022)
पंजाब में 117 विधानसभा सीटें हैं, 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई में 77 सीटें जीतकर 10 साल बाद सत्ता में वापसी की थी. वहीं आम आदमी पार्टी 20 सीटें जीतकर मुख्य विपक्षी दल बना और 10 साल तक सत्ता पर काबिज रही शिरोमणि अकाली दल सिर्फ 18 सीटों पर सिमट गई.

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 (Uttarakhand Assembly Election 2022)
उत्तराखंड में 70 विधानसभा सीटें हैं. साल 2017 में हुए चुनाव में बीजेपी ने सबसे ज्यादा 57 सीटें जीतकर सरकार बनाई थी. जबकि कांग्रेस सिर्फ 11 सीटें ही जीतने में कामयाब रही थी.

गोवा विधानसभा चुनाव 2022 (Goa Assembly Election 2022)
2017 में 40 विधानसभा सीटों वाले गोवा में कांग्रेस 17 सीटों पर जीत दर्ज कर सबसे बड़ी पार्टी बनी थी. लेकिन कांग्रेस अपने विधायकों को एकजुट नहीं रख पाई. नतीजतन गोवा में बीजेपी की सरकार बन गई. बीजेपी ने साल 2017 में मात्र 13 सीटें जीती थीं.

मणिपुर विधानसभा चुनाव 2022 (Manipur Assembly Election 2022)
मणिपुर में 60 विधानसभा सीटें हैं. 2017 में कांग्रेस ने 28 और बीजेपी ने 21 सीटों पर जीत हासिल की थी. कोई भी दल अपने दम पर सरकार बनाने के लिए जरूरी 31 सीटों का जादुई आंकड़ा नहीं छू पाया. लेकिन मणिपुर में बीजेपी सरकार बनाने में कामयाब रही. (ईटीवी भारत से इनपुट के साथ)

spot_img
1,717FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe