देशभर में ईद-उल-फितर धूमधाम से मनाई गई, पढ़िए खास रिपोर्ट

नई दिल्ली: पूरे देश में ईद-उल-फितर बड़ी धूमधाम और जोश-ओ-ख़रोश के साथ मनाई गई. नमाज के बाद उलमा-ए-कराम ने आपसी भाईचारे पर जोर दिया और लोगों से देश की मौजूदा स्थिति में धैर्य रखने का आग्रह किया. नमाज के दौरान लोग एक दूसरे से गले मिलते नजर आए. ईदगाह और मस्जिदों में हजारों लोगों ने एक साथ सज्दा किया और नमाज अदा कर अल्लाह का शुक्र अदा किया.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दो साल के अंतराल के बाद ईद-उल-फितर की नमाज अदा की गई. तमाम बंदिशें और पाबंदियों के हटने के कारण मस्जिदों में बहुत ज़्यादा भीड़ रही. मुस्लिम बहुल इलाके ओखला के जामिया नगर में ईद-उल-फितर की नमाज जोश-ओ-ख़रोश के साथ अदा की गई. जामिया मिलिया इस्लामिया की जामा मस्जिद, खलीलुल्लाह मस्जिद और जमात इस्लामी हिन्द की इशात-उल-इस्लाम मस्जिद, नूर नगर की कहकशां मस्जिद, शाहीन बाग की शाहीन जामा मस्जिद और सनाबिल की ईदगाह में बड़ी संख्या में लोगों ने ईद की नमाज़ अदा की.

दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में एक दो जगहों को छोड़ कर ईद की नमाज़ शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई और पूरे राज्य में बड़ी धूमधाम से ईद-उल-फितर मनाई गई. बता दें कि उत्तर प्रदेश के संभल में ईद की नमाज़ के बाद दो गुटों के बीच फायरिंग और पथराव की घटना सामने आई. फायरिंग में एक बच्चा समेत तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

इसी तरह बिहार में भी ईद की नमाज़ बहुत ही शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई और पूरे राज्य में बड़ी धूमधाम से ईद-उल-फितर मनाई गई. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद पटना के गांधी मैदान में ईद की नमाज़ में शामिल हुए.

वहीं, कर्नाटक में भी बड़ी खुशी के साथ ईद-उल-फितर की नमाज अदा की गई और सभी लोगों ने देश में शांति और व्यवस्था के लिए अल्लाह से दुआ की. इस मौके पर मौजूद कई हिंदू भाइयों ने मुसलमानों को गले लगाया. ईद के मौके पर स्थानीय विधानसभा सदस्य और बागवानी मंत्री मुनीरत्न ने मुसलमानों को ईद की बधाई दी और कहा कि इसी तरह हिंदुओं और मुसलमानों के बीच आपसी प्यार और भाईचारा हमेशा बना रहे.

देश के अन्य राज्यों की तरह पश्चिम बंगाल में भी कोरोना वायरस के करीब दो साल बाद ईद-उल-फितर की नमाज अदा की गई. पश्चिम बंगाल सरकार ने भी इस बार ईद के मौके पर कोई निर्देश जारी नहीं किया. जिससे आम लोगों ने पूरे जोश के साथ साथ पारंपरिक तरीके से ईद-उल-फितर की नमाज अदा की.

महाराष्ट्र राज्य के मुस्लिम बहुल शहर मालेगांव में ऐतिहासिक लश्करवाली ईदगाह में बड़ी संख्या में मुसलमानों ने ईद-उल-फितर की नमाज अदा की और देश की शांति, व्यवस्था और समृद्धि के लिए प्रार्थना की. इस मौके पर ईदगाह के इमाम और खतीब मुफ्ती मुहम्मद इस्माइल कासमी ने कहा कि उन्होंने ईदगाह से लोगों को यह संदेश दिया कि देश में कुछ लोग चाहते हैं कि मुसलमान हथियार उठा लें, जिससे देश में शांति और व्यवस्था खराब हो. ऐसे में हमें सब्र और सहनशीलता से काम लेना होगा. देश का संविधान सबके लिए एक समान है.

उन्होंने कहा, ‘इस देश में 25 करोड़ से ज्यादा मुसलमान हैं. हम न तो धर्म छोड़ सकते हैं और न ही इस देश को छोड़ सकते हैं. पूरे साहस और उत्साह के साथ हम भारत में हैं और हम डरने और घबराने वालों में से नहीं हैं.’

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe