ज्ञानवापी मस्जिद विवादः मुस्लिम पक्ष ने किया ‘शिवलिंग’ कार्बन डेटिंग का विरोध, अगली सुनवाई 14 अक्टूबर को

नई दिल्ली: ज्ञानवापी मस्जिद समिति ने मंगलवार को हिंदू पक्ष द्वारा दायर उस याचिका का विरोध किया, जिसमें उन्होंने उस ढांचे की कार्बन डेटिंग की मांग की थी, जिसके बारे में उन्होंने दावा किया था कि यह ज्ञानवापी मस्जिद वजुखाना या जलाशय के अंदर पाया गया ‘शिवलिंग’ है. अदालत अब मामले की सुनवाई 14 अक्टूबर को करेगी.

आवाज द वॉयस की खबर के मुताबिक़, याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि 16 मई को सर्वेक्षण कार्य के दौरान मस्जिद के वजूखाना या जलाशय में पाया गया ‘शिवलिंग’ केस संपत्ति का हिस्सा था. हिंदू पक्ष ने कार्बन डेटिंग और शिवलिंग जैसी संरचना के अन्य वैज्ञानिक परीक्षणों की मांग की. कार्बन डेटिंग एक वैज्ञानिक प्रक्रिया है, जो किसी पुरातात्विक वस्तु या पुरातात्विक खोजों की आयु का पता लगाती है.

हिंदू पक्ष की दलील सुनने के बाद, वाराणसी की अदालत ने मामले में सुनवाई की अगली तारीख 11 अक्टूबर तय की थी और अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद समिति से याचिका पर अपना जवाब दाखिल करने को कहा था. मंगलवार को, मस्जिद समिति ने उस संरचना की कार्बन डेटिंग की मांग करने वाली याचिका का विरोध किया, जिसे हिंदू पक्ष शिवलिंग होने का दावा करता है.

अदालत ने मंगलवार को सुनवाई स्थगित कर दी और मामले की अगली सुनवाई 14 अक्टूबर को होगी. ज्ञानवापी मस्जिद प्रतिष्ठित काशी विश्वनाथ मंदिर के बगल में स्थित है.

वाराणसी की अदालत में एक याचिका दायर की गई है, जिसमें दावा किया गया है कि मस्जिद का निर्माण मुगल सम्राट औरंगजेब के आदेश पर हिंदू ढांचे को गिराकर उसके एक हिस्से पर किया गया था.

spot_img
1,712FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe