इशरत अख्तरः व्हीलचेयर बास्केटबॉल की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बनीं मोटिवेशनल स्पीकर

श्रीनगर: उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले की व्हीलचेयर बास्केटबॉल की पहली अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल खिलाड़ी इशरत अख्तर अब कई लोगों की आदर्श और प्रेरणा स्रोत हैं. उनके हौसले की दास्तां जो भी सुनता है, तारीफ किए बिना नहीं रहता.

आवाज़ द वॉयस की खबर के मुताबिक, अख्तर को कश्मीर के पहले अंतरराष्ट्रीय व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी होने का गौरव प्राप्त है. वह अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर कई बार देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. अब एक मोटिवेशनल स्पीकर बन गई हैं. उनके शब्द विशेष रूप से उन लोगों की मदद करते हैं जो शारीरिक रूप से अक्षम हैं.

मीडिया से बात करते हुए इशरत अख्तर ने कहा, 24अगस्त 2016 को उनका एक्सीडेंट हो गया था. उनकी रीढ़ की हड्डी टूट गई थी. इसके बाद वह स्थायी रूप से विकलांग हो गईं. उसे अपना शेष जीवन व्हीलचेयर में बिताने के लिए मजबूर होना पड़ा. वह पहले गांव की एक स्वस्थ्य लड़की थी. एक दिन गलती से अपने घर की बालकनी से गिर गई.

इस हादसे के बाद अख्तर को काफी मुश्किलों से गुजरना पड़ा. इस दौरान उन्हें यकीन नहीं हो रहा था कि वह फिर से अपने पैरों पर खड़ी नहीं हो पाएंगी. इस दौरान उन्हें मानसिक तनाव भी हुआ. लेकिन साहस से काम लिया.

अख्तर का कहना है कि एक दिन वह श्रीनगर के इंडोर स्टेडियम में गई, जहां व्हीलचेयर बास्केटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया कैंप का आयोजन किया जा रहा था. उसने ट्रायल दिया और राष्ट्रीय टीम के लिए चुन ली गईं.

अख्तर का कहना है कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वह व्हीलचेयर बास्केटबॉल खिलाड़ी बन अपने देश का प्रतिनिधित्व करेंगी. चौंपियनशिप में भाग लेने के लिए उन्हें अलग-अलग राज्यों में जाना पड़ा.

उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के लिए उन्हें हर दिन बारामूला से श्रीनगर जाना पड़ता था. बारामूला में बुनियादी ढांचे की कमी के कारण कई समस्याएं थीं. यह एक कठिन दौर था, लेकिन इससे उबरने के बाद उन्हें अपने माता-पिता का पूरा सहयोग मिला. उनके माता-पिता हमेशा उन्हें प्रोत्साहित करते रहे. कभी निराश नहीं होने दिया.

अख्तर ने कहा कि दुनिया में कोई भी काम मुश्किल नहीं. अगर दिल में लगन हो तो इंसान दुनिया में कुछ भी हासिल कर सकता है. कहती हैं कि वह भविष्य में और अधिक व्हीलचेयर बास्केटबॉल चौंपियनशिप में भाग लेना चाहती है. न केवल जम्मू-कश्मीर बल्कि पूरे भारत को गौरवान्वित करना चाहती हैं

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe