‘द कश्मीर फाइल्स’ की तर्ज़ पर मुसलमानों की हत्याओं पर भी फिल्म बनाएं: आईएएस अधिकारी नियाज खान

द कश्मीर फाइल्स’ पर प्रशासनिक अधिकारियों ने भी प्रतिक्रिया दी है. इसी कड़ी में अब इस मामले में मध्यप्रदेश शासन में तैनात आईएएस अधिकारी नियाज खान (IAS Niyaz Khan) ने भी बयान दिया है. आईएएस अधिकारी ने कहा कि मुसलमानों की हत्याओं पर भी फिल्म बनानी चाहिए, मुसलमान कीड़े नहीं बल्कि इंसान हैं.

उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि ‘कश्मीर फाइल ब्राह्मणों का दर्द दिखाती है. उन्हें पूरे सम्मान के साथ कश्मीर में सुरक्षित रहने की अनुमति दी जानी चाहिए. निर्माता को कई राज्यों में बड़ी संख्या में मुसलमानों की हत्याओं को दिखाने के लिए भी एक फिल्म बनानी चाहिए. मुसलमान कीड़े नहीं बल्कि इंसान और देश के नागरिक हैं.’

मुसलमानों के नरसंहार पर लिखेंगे किताब

मध्यप्रदेश शासन में तैनात आईएएस अधिकारी नियाज खान ने ट्वीट कर लिखा कि ‘अलग-अलग मौकों पर मुसलमानों के नरसंहार को दिखाने के लिए एक किताब लिखने की सोच रहा हूं, जिससे निर्माता कश्मीर फाइल्स जैसी फिल्म बना सकें और अल्पसंख्यकों के दर्द और पीड़ा को देशवासियों के सामने लाया जा सके.’

उन्होंने आगे ट्वीट किया कि ‘समाज का एक हिंसक वर्ग है जिसने सच सुनने के लिए अपने कान बंद कर लिए हैं. यहां तक कि तथाकथित पढ़े-लिखे लोग भी सच बोलने वाले को गाली देने के लिए सड़क छाप भाषा का इस्तेमाल करते हैं. खराब परवरिश और कट्टरपंथियों की कंपनी ने उनका दिमाग खा लिया है. गंदी भाषा का प्रयोग उनके दिमाग को दिखाता है. दुखी.’

कौन हैं नियाज खान
मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस अधिकारी नियाज खान फ़िलहाल लोक निर्माण विभाग में उप सचिव के पद पर तैनात हैं. आईएएस अधिकारी नियाज खान कई किताबें भी लिख चुके हैं और अपनी टिप्पणी के कारण हमेशा सुर्खियों में रहते हैं. नियाज अंडर वर्ल्ड डॉन अबू सलेम की प्रेमकथा लिखने के मामले में मशहूर हुए थे.
spot_img
1,717FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,200SubscribersSubscribe