इमरान खान अविश्वास मत हारने के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद से हटाए गए

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में इमरान खान रविवार को विपक्ष की ओर से लाया गया अविश्वास प्रस्ताव हारने के बाद प्रधानमंत्री पद से हटा दिए गए. 342 सदस्यों वाली नेशनल असेंबली (एनए) में 174 सदस्यों ने प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया.

खान अब पाकिस्तान के इतिहास में पहले ऐसे प्रधानमंत्री बन गए हैं, जिन्हें अविश्वास प्रस्ताव के जरिए सत्ता से बेदखल किया गया है. उनसे पहले 2006 में शौकत अजीज और 1989 में बेनजीर भुट्टो इस तरह की कार्रवाई से बच गए थे.

विपक्षी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) अयाज सादिक, असद कैसर के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद एनए के नए प्रभारी बन गए हैं. असद कैसर ने कहा कि वह प्रधानमंत्री को हटाने के लिए रची गई विदेशी साजिश में भाग नहीं ले सकते. परिणाम की घोषणा रविवार सुबह की गई.

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार सुबह साढ़े दस बजे शुरू हुए सत्र को स्थगित करने से पहले सादिक ने कहा कि नए प्रधानमंत्री पद के लिए नामांकन पत्र दोपहर दो बजे तक जमा कर देना चाहिए, जिससे रविवार दोपहर 3 बजे तक जांच पूरी हो सके.

इसके बाद सोमवार को सुबह 11 बजे एनए का सत्र बुलाया जाएगा और तब एक नया प्रधानमंत्री चुना जाएगा.

खान को पद से हटाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री पद के लिए संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार शहबाज शरीफ ने रविवार को एक ट्वीट में कहा कि देश और संसद आखिरकार एक गंभीर संकट से मुक्त हो गए.

उन्होंने कहा, पाकिस्तान राष्ट्र को एक नई सुबह के लिए बधाई.

सादिक के इमरान खान को हटाने की घोषणा के बाद, शरीफ ने एनए से कहा कि नई सरकार बदला लेने की राजनीति में शामिल नहीं होगी.

डॉन न्यूज ने पीएमएल-एन नेता के हवाले से कहा, मैं अतीत की कड़वाहट में वापस नहीं जाना चाहता. हम उन्हें भूलकर आगे बढ़ना चाहते हैं. हम बदला नहीं लेंगे या अन्याय नहीं करेंगे, हम लोगों को बिना किसी कारण के जेल नहीं भेजेंगे. कानून और न्याय अपना फर्ज निभाएंगे.

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) बिलावल भुट्टो-जरदारी ने कहा, पुराने पाकिस्तान में आपका स्वागत है. लोकतंत्र के जरिए अच्छा बदला लिया गया है.

जैसे ही मध्यरात्रि से कुछ मिनट पहले प्रस्ताव पर मतदान शुरू हुआ, खान की सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के सदस्य सदन से बाहर चले गए, उन्होंने मतदान प्रक्रिया में भाग नहीं लिया.

रविवार का घटनाक्रम विपक्षी दलों के गठबंधन की ओर से 28 मार्च को एनए में खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किए जाने के बाद आया है.

एनएस के उपाध्यक्ष ने 3 अप्रैल को पाकिस्तानी सरकार को गिराने की साजिश में विदेशी संलिप्तता बताते हुए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया था.

चार दिन बाद पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को डिप्टी स्पीकर की कार्रवाई को देश के संविधान का उल्लंघन करार दिया.

शीर्ष अदालत ने एनए को शनिवार को सदन का सत्र बुलाने और अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान कराने का आदेश दिया.

प्रक्रिया और नियमों के अनुसार, सदन अविश्वास प्रस्ताव के परिणाम को नए प्रधानमंत्री के चुनाव की प्रक्रिया शुरू करने की मंजूरी और अनुमति के लिए देश के राष्ट्रपति के पास भेजेगा.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इस बीच, खान जो 2018 में प्रधानमंत्री चुने गए थे और उन्होंने भ्रष्टाचार से लड़ने और अर्थव्यवस्था को ठीक करने का वादा किया था, उन्होंने कहा कि वह एक विपक्षी सरकार को मान्यता नहीं देंगे. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि रूस और चीन के खिलाफ मुद्दों पर वाशिंगटन के साथ खड़े होने से इनकार करने के कारण उन्हें हटाने के लिए अमेरिका के साथ मिलकर साजिश की गई है.

उन्होंने बार-बार कहा है कि पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियां विदेशी ताकतों के साथ काम कर रही हैं.

अमेरिका ने कहा कि इन आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है और खान ने कभी कोई सबूत नहीं दिया.

रविवार को मीडिया को संबोधित करते हुए पीटीआई के सीनेटर फैसल जावेद खान ने कहा कि खान अपने प्रधानमंत्री आवास से शानदार तरीके से बाहर निकले और वह झुके नहीं.

(इनपुट आईएएनएस)

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe