दिल्ली दंगे को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस, पीड़ित लोगों ने क्या कहा? जानिए

खालिद सैफी, अतहर खान, उमर खालिद, मीरान हैदर और इशरत जहां की गिरफ्तारी और उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए दंगे के दो साल पूरे होने पर दिल्ली के प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया में वकीलों, पत्रकारों और दंगे के दौरान अपनो को खोने वालो ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दंगे की सचाई को बयान किया.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात को उठाया गया कि दो साल बाद भी बहुत से लोगों को अभी तक इंसाफ नहीं मिला है. कोर्ट, पुलिस और मीडिया पर सवाल खड़े किये गये कि इन्होंने ईमानदारी से अपना काम नहीं किया. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा में 53 लोगों की मौत हो गयी थी जिसमें ज़्यादातर मुस्लमान ही थे और अब भी लगभग डेढ़ हाज़र लोग ऐसे हैं जो जेलों में बंद हैं जिनकी सुनवाई तक नहीं हो रही है और इंसाफ के मुन्तज़िर हैं.

इस प्रेस कांफ्रेंस में दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. जफरुल इस्लाम खान (Zafarul Islam Khan) ने मीडिया से बात करते हुए दिल्ली दंगे के बारे में कहा कि एक धारा बनी हुई है कि किस को बचाना है और किस को जेल में डालना है. ये एक साज़िश थी, बहार से लोग लाये गए और सब ने देखा, ये एक हक़ीक़त है. बेक़सूर लोगों को आरोपी बना कर जेल में डाल दिया गया है. ऐसे लोग डेढ़ हज़ार के करीब हैं जिनके बारे में बात नहीं हो रही है, ऐसे लोगों के बारे में भी बात होनी चाहिए. इनको भी सपोर्ट मिलनी चाहिए ताकि इनको भी जल्द से जल्द इंसाफ मिल सके.

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस पहले दिन से ही गलत रास्ते पर थी. उस वक़्त भी जब दंगा हो रहा था लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जो लोगों को बचाये भी, लेकिन कुछ थे जो दंगे में शामिल थे.

उन्होंने कहा कि पुलिस के तीन रोल थे. कुछ लोग जो खड़े हो कर सिर्फ देखते रहे और कुछ लोगों ने मदद भी की लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जो दंगाईयों के साथ खड़े हुए.

उन्होंने कहा कि एक निष्पक्ष और न्यायिक जांच होनी चाहिए जिसमें हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज होते हैं. उनके पास ताक़त भी होती है और इनके अधीन जांच होनी चाहिए, ये जब तक नहीं होंगे सच सामने नहीं आएंगे. अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें …..

वहीं, खालिद सैफी की पत्नी नरगिस ने सदा टाइम्स से बात करते हुए कहा कि खालिद सैफी अपने लोगों की मदद करने के लिए गये थे लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर लेती है और उन पर अलग अलग केस लगा देती है. उन्हें जेल में डाल दिया जाता है. उन्होंने कहा कि उनके साथ अत्याचार की जाती है उनके पैर पर प्लास्टर चढ़ा दिया जाता है.

वह सबकी मदद करने के लिए जाने जाते थे. उनके पास कॉल आ रहे थे कि हमें आपकी मदद चाहिए. हमें बैंडेज भेजवा दीजिये. इन सबके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता है जो सबकी मदद करने में लगा था, जो दंगे रुकवाने के लिए कोशिश कर रहा था, न कि दंगा फ़ैलाने में. उन्होंने सवाल किया कि जो लोग दिल्ली दंगा भड़काने में लगे थे जैसे कपिल मिश्रा, रागिनी तिवारी और अनुराग ठाकुर, उनसे सवाल क्यों नहीं किया गया? इन लोगों से पूछताछ क्यों नहीं हो रही है? निष्पक्ष जांच क्यों नहीं हो रही है?

खालिद सैफी की पत्नी नरगिस ने बताया कि लोगों ने मेरा साथ देना छोड़ दिया. कोई मदद को आगे नहीं आया. पड़ोसी, रिश्तेदार सब ने साथ छोड़ दिया. लोगों ने कॉल उठाना और कॉल करना बंद कर दिया. लोगों को पलटते देखा है. लॉकडाउन के दौरान हम अकेले थे लेकिन किसी ने भी हमारी खबर नहीं ली. लोगों के अंदर खौफ भर गया था. वीडियो देखें…..

दिल्ली दंगे में गिरफ्तार अतहर खान की मां भी प्रेस कांफ्रेंस में आई थीं. उन्होंने ने भी सदा टाइम्स से बात करते हुए कहा कि उसके कपड़े उतरवाये गये, नाम पूछा और फिर कम्युनल गालियां दी गईं. उसके साथ अलग अलग जेलों में दुर्व्यवहार किया गया.

उन्होंने कहा कि हम जब भी कोर्ट जाते हैं तो हमें तारीख पर तारीख मिलती हैं लेकिन हमें उम्मीद है कि मेरे बेटे को जल्द जमानत मिल जाएगी. वीडियो देखें…..

वकील कवलप्रीत कौर ने दिल्ली दंगे को लेकर बहुत सारे सवाल किये और कहा कि दिल्ली दंगे को हम लोग भूलें नहीं और लोगों को भूलने न दें. इसको याद रखें कि दो साल पहले इसी दिल्ली शहर के अंदर जितनी जानें गईं, जितने लोगों के मकान जले, जितने लोगों को चोटें आईं, ये सब किसकी वजह से हुआ?

कौन था जो भीड़ को उकसा रहा था? कौन था जो नफरत भरे भाषण दे रहा था? कौन था जो भीड़ के अंदर शामिल था जिसने क़त्ल किया? क़ातिल कौन है? जो लोग मरे जिसमें धर्म देख कर दुकान जलाया गया. जिस भीड़ ने किया, जिसमें आस पास के लोग भी शामिल थे. कुछ बहार के थे जिसमें बीजेपी (BJP) और आरएसएस (RSS) के लोग भी शामिल थे. उन लोगों को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है. मुआवजा के नाम पर आप ने उनको अभी तक कुछ नहीं दिया. झूट फैलाया जा रहा है कि दिल्ली दंगे के जो असल मास्टर माइंड थे वह वहीं थे जो एंटी सीएए प्रोटेस्टर थे. वीडियो देखें…..

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe