उत्तर प्रदेश में भाजपा को 20 फीसदी सीटें ही मिलेंगी: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ’80 बनाम 20′ से उनका मतलब है कि भाजपा को उत्तर प्रदेश चुनाव में 20 फीसदी सीटे मिलेंगी जबकि बाकी 80 प्रतिशत सपा को मिलेगी. लेकिन आज की भीड़ देखकर लगता है कि अब उनको वह भी मिलना मुश्किल होगा.

पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य तथा अन्य भाजपा विधायकों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मौर्य के आने से पार्टी को मजबूती मिली है.

उन्होंने कहा, कुछ दिनों पहले हमने कहा था कि मुख्यमंत्री जी को गणित का अध्यापक रखना होगा. यह जो अस्सी और बीस की बात कर रहे हैं. समाजवादी पार्टी के साथ अस्सी फीसदी लोग खड़े ही हो गये. जिन जिन लोगों ने आज मंच को देखा होगा, स्वामी प्रसाद मौर्य की बात सुनी होगी, उससे लगता है कि वह 20 फीसदी भी उनके खिलाफ हो गये होंगे.

सपा नेता ने कहा, अब भारतीय जनता पार्टी का सफाया होना तय है. अब कोई सफाया होने से रोक नहीं सकता और जो लोग तीन चौथाई की बात कर रहे थे, वह दरअसल तीन से चार फीसदी की बात कर रहे हैं.

यादव ने कहा, आज भाजपा के पास कोई ठोस उपलब्धि नहीं हैं. यह वही भाजपा के लोग हैं जिन्होंने किसानो को भरोसा दिलाया था कि सरकार आएगी तो किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी. लेकिन किसानों की आय दोगुनी नहीं हुई. भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने किसानो का डीजल पेट्रोल महंगा कर दिया.

बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 11 जिलों की 58 सीटों के लिए आज से नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है.

इस चरण में शामली, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत, हापुड़, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, मथुरा, आगरा और अलीगढ़ समेत राज्य के 11 जिलों की कुल 58 सीटों पर मतदान होना है. 58 सीटों में से नौ सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं.

नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 21 जनवरी है. 24 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच होगी. वहीं 27 जनवरी तक नाम वापस लिए जा सकेंगे. गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने कहा है कि उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा.

10 मार्च को आएंगे यूपी चुनाव के नतीजे

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा. यूपी में सात चरणों में 10, 14, 20, 23, 27 और 3 और 7 मार्च को वोट डाले जाएंगे. जबकि वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी. चुनाव आयोग ने कोरोना के मद्देनज़र यूपी, पंजाब, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों के लिए 15 जनवरी तक किसी भी राजनीतिक रैलियों और रोड शो की अनुमति नहीं दी है.

10 फरवरी को पहले चरण में पश्चिम यूपी के 11 जिलों की 58 सीटों पर, दूसरा चरण 14 फरवरी को 9 जिलों की 55 सीटों पर, 20 फरवरी को तीसरे चरण में 16 जिलों की 59 सीटों पर मतदान होगा। चौथे चरण में मतदान 23 फरवरी को लखनऊ सहित 9 जिलों की 60 सीटों पर होगा। पांचवे चरण में 27 फरवरी को 11 जिलों की 60 सीटों पर, छठे चरण में 3 मार्च को 10 जिलों की 57 सीटों पर और सातवें और अंतिम चरण का मतदान 7 मार्च को 9 जिलों की 54 सीटों पर किया जाएगा। 17वीं विधानसभा का कार्यकाल (UP Assembly ) 15 मई तक है।

17वीं विधानसभा

17वीं विधानसभा के लिए 403 सीटों पर चुनाव 11 फरवरी से 8 मार्च 2017 तक 7 चरणों में हुए थे। उस चुनाव में बीजेपी ने 312 सीटें जीतकर पहली बार यूपी विधानसभा में तीन चौथाई बहुमत हासिल किया था। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की अगुवाई में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और कांग्रेस (Congress) गठबंधन 54 सीटें जीत सका। इसके अलावा प्रदेश में कई बार मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती की बीएसपी 19 सीटों पर सिमट गई। इस बार सीधा मुकाबला समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और भाजपा (Bharatiya Janata Party) के बीच माना जा रहा है। भाजपा योगी आदित्यनाथ (Yogi adityanath) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के चेहरे को आगे कर चुनाव लड़ रही है।

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe