अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस क्यों मनाया जाता है, क्या है इसका इतिहास? जानिए

दो साल पहले जहां पूरी दुनिया कोरोना के कहर की आशंका से सहमी हुई थी वहीं अब महामारी के घटते मामलों के बीच लोग महिला दिवस के मौके पर अपने रिश्तेदारों, सहेलियों और सहयोगी महिलाओं को शुभकामना संदेश भेजने के साथ ही कार्ड, चॉकलेट, फूल और अन्य उपहार देने की तैयारियां कर रहे हैं. हालांकि इस बात से बहुत ज्यादा लोग वाकिफ़ नहीं हैं कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस आखिर क्यों और कब से मनाया जाता है?

दरअसल साल 1908 में एक महिला मजदूर आंदोलन की वजह से महिला दिवस मनाने की परंपरा की शुरूआत हुई. इस दिन 15 हज़ार महिलाओं ने नौकरी के घंटे कम करने, बेहतर वेतन और कुछ अन्य अधिकारों की मांग को लेकर न्यूयार्क शहर में प्रदर्शन किया था. एक साल बाद सोशलिस्ट पार्टी ऑफ़ अमेरिका ने आठ मार्च को पहला राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित किया. 1910 में कोपेनहेगन में कामकाजी महिलाओं का एक अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ, जिसमें इस दिन को अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के तौर पर मनाने का सुझाव दिया गया और धीरे-धीरे यह दिन दुनिया भर में अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में लोकप्रिय होने लगा.

आठ मार्च को अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मान्यता 1975 में मिली, जब संयुक्त राष्ट्र ने इसे एक थीम के साथ मनाने की शुरूआत की.

देश दुनिया के इतिहास में आठ मार्च की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:-

1702 : इंग्लैंड के राजा विलियम तृतीय की मौत के बाद महारानी एनी ने ब्रिटेन की सत्ता संभाली.

1921 : स्पेन के प्रधानमंत्री एदुआर्दो दातो इरादियर की संसद भवन से बाहर निकलते हुए हत्या कर दी गई.

1930 : महात्मा गांधी ने भारत की आजादी के लिए अंग्रेजी शासन के खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया.

1942 : जापानी फौजों ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बर्मा के रंगून शहर पर कब्जा किया.

1948 : एयर इंडिया इंटरनेशनल की स्थापना.

1953 : वसुंधरा राजे का जन्म. वह लगातार दस वर्ष तक राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी सरकार की मुख्यमंत्री रहीं.

1971 : अमेरिका के मुक्केबाज जो फ्रेजियर ने पूर्व चैंपियन मोहम्मद अली को हराकर विश्व हेवीवेट खिताब दोबारा अपने नाम किया.

2014 : क्वालालम्पुर से बीजिंग जाते हुए मलेशिया एयरलाइंस का एक विमान लापता हो गया, जो लाख कोशिशों के बावजूद मिल नहीं पाया. विमान में 227 यात्री और चालक दल के 12 सदस्य सवार थे. इसे खोजने के प्रयास 2017 में बंद कर दिए गए.

2020 : कोरोना वायरस पैर पसारने लगा. विश्वभर में मामलों की संख्या 1,05,800 तक पहुंची. 95 देशों तक पहुंचा वायरस. अकेले चीन में इसके 80,695 मामले. भारत में संक्रमितों की संख्या 39 पर पहुंची. केरल में पांच संक्रमित मिले.

(भाषा से इनपुट)

spot_img
1,713FansLike
248FollowersFollow
118FollowersFollow
14,400SubscribersSubscribe